Breaking News
Rakesh Sharma space journey, Rakesh Sharma career, rakesh sharma biography, rakesh sharma

जानिए कौन है राकेश शर्मा? जिसने अंतरिक्ष से भारत को देखकर कहा था- ‘सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा’

हम आज आपको अपने इस आर्टिकल के अंदर पहले भारतीय अंतरिक्ष यात्री विंग कमांडर राकेश शर्मा के बारे में बताने जा रहे हैं! भारतीय वायु सेना के अंदर विंग कमांडर के पद पर सेवानिवृत्त हुए राकेश शर्मा दुनिया के 138 वे अंतरिक्ष यात्री है! राकेश शर्मा ने 8 दिन अंतरिक्ष में बिताए थे! इस के दौरान राकेश शर्मा ने भारत के कई हिस्सों की फोटोग्राफी भी जारी की थी! इसके अलावा राकेश शर्मा ने अंतरिक्ष में योगाभ्यास किया था राकेश शर्मा की अंतरिक्ष यात्रा भारतीयों के लिए गर्व का विषय है!

तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि राकेश शर्मा कौन थे? राकेश शर्मा का जन्म कहां पर हुआ था? राकेश शर्मा किस उम्र में अंतरिक्ष यात्रा पर गए थे इसके अलावा भी बहुत सारी चीजें हैं जो उनके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं तो चलिए शुरू करते हैं रात के शर्मा का संपूर्ण जीवन परिचय-

राकेश शर्मा की बायोग्राफी यानी जीवनी (Rakesh Sharma Biography)

13 जनवरी 1949 को पंजाब के पटियाला शहर में एक गोंड ब्राह्मण परिवार में अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा का जन्म हुआ था! राकेश शर्मा के पिता का नाम देवेंद्र शर्मा और उन की माता का नाम तृप्ता शर्मा था! उनके जन्म के बाद उनके माता-पिता शहर में रहने के लिए चले गए थे!

राकेश शर्मा शिक्षा (Rakesh Sharma Education)

वहीं अगर राकेश शर्मा की शिक्षा की बात की जाए तो उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा हैदराबाद के सेंट जॉर्ज ग्रामर स्कूल से पूरी की इसके बाद उन्होंने हैदराबाद की उस्मानिया यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया है!

राकेश शर्मा करियर (Rakesh Sharma Career)

साल 1966 में ही राकेश शर्मा का चयन राष्ट्रीय सुरक्षा अकैडमी यानी कि एनडीए में हो गया था राष्ट्रीय सुरक्षा एकेडमी की ट्रेनिंग पूरी हो जाने के बाद साल 1970 में राकेश शर्मा को भारतीय वायु सेना में बतौर पायलट नियुक्त कर लिया गया इसके 1 साल बाद ही 1971 में उन्होंने भारत पाकिस्तान युद्ध के दौरान मिग विमान को सफलतापूर्वक पूरा कर अपनी योग्यता को साबित किया! अपनी योग्यता के बदौलत ही साल 1984 में राकेश शर्मा भारतीय वायु सेना में स्क्वाड्रन लीडर के पद तक पहुंचे!

राकेश शर्मा अंतरिक्ष यात्रा (Rakesh Sharma space journey)

यह वह दौर था जब भारत के अंतरिक्ष विज्ञान संगठन इसरो और सोवियत संघ के इन्टरकॉसमॉस मिलकर एक संयुक्त अभियान पर काम कर रहे थे इसके चलते 3 लोगों को अंतरिक्ष में भेजा जाना था इन 3 लोगों में से 2 यात्री तो सोवियत संघ के होंगे जबकि एक भारत का, तो 20 सितंबर 1982 को राकेश शर्मा और एक अन्य भारतीय रवीश मल्होत्रा का चयन इसके लिए किया गया था यानी कि राकेश शर्मा और रवीश मल्होत्रा में से किसी एक को ही भारत की ओर से अंतरिक्ष में उस समय जाना था, इस अभियान के तहत जरूरी प्रशिक्षण लेने के लिए राकेश शर्मा और रवीश मल्होत्रा को सोवियत संघ के कजाकिस्तान स्थित अंतरिक्ष स्टेशन भेजा गया था राकेश शर्मा की काबिलियत को देखते हुए उनको अंतरिक्ष में जाने के लिए चुना गया था!

अंतरिक्ष में बिताए 8 दिन

राकेश शर्मा ने 2 अप्रैल 1984 को दोस्त सोवियत संघ के अंतरिक्ष यात्रियों कमांडर वाई वी मलिशेव और फ्लाइट इंजीनियर जी एम स्त्रोक्लोफ़ के साथ अंतरिक्ष के उड़ान भरी! जिस अंतरिक्ष यान के जरिए राकेश शर्मा ने उड़ान भरी थी उसका नाम अंतरिक्ष यान सोयूज टी-11 था! ऐसे में तीनों अंतरिक्ष यात्रियों ने सोवियत संघ के द्वारा स्थापित ऑर्बिटल स्टेशन सोल्यूज-7 में पहुंच गए इस तरीके से भारत अंतरिक्ष में मानव भेजने वाला 14वा देश बन गया! राकेश शर्मा ने अंतरिक्ष में 7 दिन 21 घंटे और 40 मिनट बताएं इस दौरान उन्होंने कई रिसर्च तक की है!

सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा

जिस समय राकेश शर्मा अंतरिक्ष में थे तब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने सोवियत संघ के अधिकारियों के साथ मिलकर अंतरिक्ष यात्रियों से बातचीत की थी इस बातचीत के दौरान इंदिरा गांधी ने राकेश शर्मा से पूछा था कि अंतरिक्ष से भारत कैसा दिखता है? तब राकेश शर्मा ने कहा था कि ‘सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा’ के शर्मा की यह बात अगले दिन अखबारों की सुर्खियों में थी!

‘अशोक चक्र’ से सम्मानित

अंतरिक्ष यात्रा से लौटने के बाद भारत में राकेश शर्मा का भारत में जोरदार स्वागत किया गया! भारत सरकार ने राकेश शर्मा की बहादुरी के लिए उन्हें ‘अशोक चक्र’ से सम्मानित किया, वहीं सोवियत संघ ने भी राकेश शर्मा को ‘हीरो ऑफ़ सोवियत यूनियन’ के सम्मान से सम्मानित किया!

1987 में हुए रिटायर

राकेश शर्मा साल 1987 में भारतीय वायु सेना से विंग कमांडर के पद से रिटायर हुए! सेवानिवृत्त होने के बाद राकेश शर्मा ने कुछ समय के लिए ‘हिंदुस्तान एरोनोटिक्स लिमिटेड (HAL) में टेस्ट पायलट के तौर पर भी काम किया! इसके अलावा साल 2006 में राकेश शर्मा को ISRO के बोर्ड में नामित किया गया था!

राकेश शर्मा की पत्नी (Rakesh Sharma Wife)

राकेश शर्मा ने कर्नल पी एन शर्मा की बेटी मधु शर्मा से शादी की थी! दोनों ही पति-पत्नी को रुसी भाषा का ज्ञान था! राकेश शर्मा और मधु शर्मा के दो बच्चे भी हुए. राकेश शर्मा के बेटे का नाम कपिल है, वहीँ राकेश शर्मा की बेटी का नाम कृतिका है! कपिल फिल्म जगत में डायरेक्टर है जबकि बेटी मीडिया में आर्ट डिविजन में है!

राकेश शर्मा अब कहाँ हैं? (Where is Rakesh Sharma now)

news18 के अनुसार राकेश शर्मा इन दिनों तमिलनाडु के खूबसूरत हिल टाउन कुन्नूर में रहते हैं! वह बेंगलुरु की एक कंपनी कैडिला लैब्स में नान एग्जीक्यूटिव चेयरमैन भी हैं!

About appearnews

Check Also

प्रियंका चोपड़ा की एक गलती के कारण होना पढ़ा था शर्मिंदा, लोगों ने किया जमकर ट्रोल…

प्रियंका चोपड़ा को आज के समय में किसी की पहचान की जरूरत नहीं है उन्होंने …