Breaking News

मैं किसे फोन करूं? केजरीवाल के इस सवाल पर PM मोदी ने दिया मजेदार जवाब

दिल्ली में ऑक्सिजन की किल्लत के बीच पीएम मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल बैठक की। बैठक में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी मौजूद रहे। सीएम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सिजन की कमी के साथ ही हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को लेकर बातचीत की।

सीएम ने केंद्र के सामने दिल्ली की मौजूदा स्थिति की जानकारी देते हुए स्थिति से निपटने में मदद का आग्रह किया। केजरीवाल ने पीएम से कहा कि देश के सभी ऑक्सिजन प्लांट्स को तुरंत आर्मी के जरिए केंद्र सरकार अपने कब्जे में ले ले। ऑक्सिजन प्लांट से निकलने वाले हर ट्रक के साथ एक आर्मी का एस्कॉर्ट्स वीकल रहेगा.

तो फिर कोई उस ट्रक को रोक नहीं पाएगा। जानते हैं बैठक में दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने क्या कहा और पीएम मोदी ने क्या बातें कहीं। ‘मेरे फोन बजते रहते हैं सर’ दिल्ली के सीएम ने कहा कि बढ़ाए वाले कोटे में से भी साढ़े तीन सौ टन ऑक्सीजन दिल्ली पहुंच पाई है।

प्रधानमंत्री जी जब से यह ऑक्सिजन का संकट शुरू हुआ है, मेरे फोन बजते रहते हैं। कभी कोई अस्पताल कहता है कि तीन घंटे की ऑक्सिजन बची है। कभी कोई अस्पताल कहता है कि दो घंटे की ऑक्सिजन बची है। हम कारण जानने की कोशिश करते हैं, तो पता चलता है कि पीछे किसी राज्य ने दिल्ली के लिए ऑक्सिजन लाने वाले ट्रक को रोक रखा है।

हमने मदद के लिए केंद्र सरकार के कुछ मंत्रियों को फोन किए। शुरू में उन्होंने खूब सहयोग किया सर, लेकिन अब वे भी बेचारे थक गए हैं। सर देश के संसाधनों पर 130 करोड़ लोगों का अधिकार है ना, अगर दिल्ली में ऑक्सिजन की फैक्टरी नहीं है तो क्या दिल्ली के दो करोड़ लोगों को ऑक्सिजन नहीं मिलेगी।

बताइए मैं फोन उठाकर किससे बात करूं’ जिस राज्य में ऑक्सिजन की फैक्टरी है, क्या वे दिल्ली की ऑक्सिजन रोक सकते हैं। ऐसे में हम क्या करें। सर मैं आपका बेहद शुक्रिया अदा करना चाहता हूं कि आज आपने यह मीटिंग बुलाई है। बहुत सही समय पर यह मीटिंग बुलाई है।

मैं यह जानना चाहता हूं कि अगर आज या कल या किसी भी टाइम हमारे किसी अस्पताल में एक या आधे घंटे की ऑक्सिजन बच जाए, और लोगों के मरने की नौबत आ जाए तो मैं केंद्र सरकार में किससे बात करूं।

मैं आपसे मार्गदर्शन चाहता हूं सर’ सर मैं यह जानना चाहता हूं कि अगर कोई राज्य दिल्ली के कोटे की ऑक्सिजन का ट्रक रोक ले तो मैं फोन उठाकर किससे बात करूं।

हालत काफी गंभीर हो गए हैं सर। हम अपने लोगों को मरने के लिए तो नहीं छोड़ सकते हैं। हमें लोगों को यह विश्वास दिलाना पड़ेगा कि हमारे लिए एक-एक जिंदगी कीमती है।

मैं दिल्ली के लोगों की तरफ से हाथ जोड़कर अपील करते हैं कि तुरंत कोई कठोर और सार्थक कदम नहीं उठाया गया तो दिल्ली के अंदर कोई बहुत बड़ी त्रासदी हो सकती है। मैं आपसे मार्गदर्शन चाहता हूं सर। ‘ऑक्सिजन के ट्रकों के साथ चले आर्मी’ देश के सभी ऑक्सिजन प्लांट्स को तुरंत आर्मी के जरिए केंद्र सरकार अपने कब्जे में ले ले।

ऑक्सिजन प्लांट से निकलने वाले हर ट्रक के साथ एक आर्मी का एस्कॉर्ट्स वीकल रहेगा, तो फिर कोई उस ट्रक को रोक नहीं पाएगा। हमारे कोटे में से कुछ ऑक्सिजन ओडिशा से भी आनी है। अगर हो सके तो हमें हवाई जहाज उपलब्ध करवाया जाए।

मोदी बोले- यह आइडिया नहीं, ऑलरेडी चल रहा है केजरीवाल ने आगे कहा कि आपका आइडिया है ऑक्सिजन एक्सप्रेस शुरू करने का, उसके जरिए हमें बंगाल और ओडिशा से ऑक्सिजन उपलब्ध करवाया जाए इस पर पीएम मोदी केजरीवाल से कहा कि यह आइडिया नहीं है, यह एक्सप्रेस चल रही है।

इस पर केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली तक नहीं आ रही है, कृपया कोरिडोर बनवा दें। हमें रातभर नींद नहीं आती सर कुछ ही राज्य हैं जहां से दिल्ली की अधिकतम ऑक्सिजन आती है। और जहां से सबसे ज्यादा दिक्कत आ रही है और जहां सबसे ज्यादा हमारे ऑक्सिजन के ट्रक रोके जा रहे हैं.

मेरी आपसे विनती है कि आप उन राज्यों के मुख्यमंत्री को एक बार फोन कर दें कि हमारे ऑक्सिजन के ट्रक न रोकें तो हमारे दिल्ली के लोगों को ऑक्सिजन मिल जाएगी। आपका एक फोन ही बहुत है सर। दिल्ली के दो करोड़ लोगों की तरफ से मैं आपको हाथ जोड़कर विनती कर रहा हूं कि सर आप हमारी मदद कीजिए।

अस्पतालों के हालात देखे नहीं जाते ऑक्सिजन की कमी के कारण अस्पतालों में जो हालात हैं, वह देखे नहीं जाते हैं। पूरी पूरी रात हम सो नहीं पाते, नींद नहीं आती। इनका मुख्यमंत्री होकर भी मैं कुछ नहीं कर पा रहा हूं।

डर लगता है कि ऑक्सीजन की कमी से कोई बड़ा हादसा न हो जाए। ईश्वर न करे अगर ऑक्सिजन न मिलने से कोई अनहोनी हो गई तो हम कभी अपने आपको माफ नहीं कर पाएंगे।

About appearnews

Check Also

सुप्रीम कोर्ट ने दिया चुनाव से पहले आजम खान को बड़ा झटका

उत्तर प्रदेश की राजनीति के लिए इस वक्त की सबसे बड़ी खबर है. समाजवादी पार्टी …