Breaking News

पढ़िए निरमा के पीछे की रोचक कहानी, अपनी बेटी की याद में पिता ने खड़ा कर दिया 1000 करोड़ का कारोबार

हमारे समाज में अगर पहले की बात करें तो जब लड़कियां होती थी तो काफी दुखी हो जाया करते थे लेकिन अब लड़कियों के होने पर खुशियां मनाई जाती है बहुत ही धूमधाम से घर में बेटी का स्वागत किया जाता है! वही बेटियां सबसे ज्यादा अपने पिता की लाडली होती है! आज हम आपको एक ऐसे पिता और बेटी के प्यार के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने अपनी बेटी की निधन के बावजूद भी अपनी प्यारी सी बेटी को जिं दा रखा है!

दरअसल हम बात कर रहे हैं कैसे इंसान की जो अपने आप को सच करने के लिए सरकारी नौकरी को छोड़कर साइकिल में घर-घर जाकर अपना उत्पाद बेचने लग गया आज उनका नाम देश के अरबपतियों में शुमार है! जमशेदपुर में भी इस ग्रुप की कंपनी संचालित है और यह ग्रुप देश भर में 18000 लोगों को रोजगार देने रही है! कम्पनी का टर्नओवर भी 70000 करोड़ टन हो गया है!

90 के दशक की बात है जब टीवी पर मशहूर शो रामायण आया करती थी तब आपने अक्सर ही एक विज्ञापन देखा ही होगा हेमा रेखा जया और सुषमा सबकी पसंद निरमा! यह लाइन सुनकर शायद आपको यह विज्ञापन याद आ गया होगा वही इस विज्ञापन के पीछे एक व्यक्ति का हाथ है वह कंपनी के मालिक करसनभाई पटेल है! गुजरात के मेहसाणा गांव में जन्मी करसन भाई पटेल खोड़ी राज पटेल बेहद शानदार इंसान थे लेकिन उन्होंने अपनी बेटी करसन भाई पटेल को रसायन शास्त्र में डिग्री करवाई थी!

पढ़ाई के बाद गुजरात के अन्य लोगों की तरह ही करसनभाई पटेल भी अपना खुद का व्यापार शुरू करना चाहते थे लेकिन परिवार की हालत इतनी अच्छी नहीं थी कि खुद का व्यापार शुरू कर सके! ऐसे में उन्होंने एक लैब असिस्टेंट की नौकरी शुरू कर दी और बाद में गुजरात सरकार के खनन एवं भूविज्ञान विभाग में उन को सरकारी नौकरी मिल गई!

करसन भाई पटेल अपने परिवार के साथ काफी खुश जरूर थे लेकिन नौकरी से संतुष्ट नहीं थे तो कुछ अलग करने की इच्छा उनके मन में हमेशा दबी हुई थी तभी अचानक से एक वाक्य हुआ उनकी बेटी एक हा दसे में चल बसी! अब इस के बाद करसनभाई पटेल को अंदर से टूट चुके थे! वह चाहते थे कि उनकी बेटी बड़ी होकर उनका नाम रोशन करें लेकिन उनकी बेटी के इस काम को उसके पिता ने पूरा किया है!

ऐसे में करसन भाई पटेल की बेटी का नाम निरुपमा था जिससे वह प्यार से निरमा बुलाया करते थे करसन भाई पटेल ने अपनी ही बेटी के नाम को जीवित रखने के लिए कंपनी की शुरुआत की! साल 1969 में करसन भाई पटेल ने अपने घर के पीछे ही वाशिंग पाउडर बनाना शुरू कर दिया था साइंस में डिग्री हासिल करने वाले करसन भाई पटेल के लिए यह इतना भी कठिन नहीं था! उन्होंने सोडा ऐश के साथ कुछ रसायन मिलाकर और पीले रंग के पाउडर के साथ उनका फार्मूला तैयार किया!

वही अपने इस प्रोडक्ट को बेचने के लिए उन्होंने साइकल से घर-घर जाकर अपने शुरू कर दिया लेकिन जब डिमांड बढ़ती हुई दिखी तो सरकारी नौकरी और खुद का व्यापार एक साथ होना तो संभव नहीं था ऐसे में कृष्ण भाई पटेल ने सरकारी नौकरी को छोड़ दिया जो उस दौर में आसान नहीं था लेकिन करसन भाई पटेल को अपने फार्मूले के ऊपर पूरा भरोसा था!

हालांकि उस दौर में हिंदुस्तान लीवर या फिर विदेशी कंपनियों के भी वाशिंग पाउडर बाजार में उपलब्ध हुआ करते थे जो उस समय तेरा रुपए प्रति किलोग्राम के हिसाब से आया करते थे जो मध्यवर्गीय परिवार के बजट में नहीं था ऐसे में लोक सभा साधारण साधनों से अपने कपड़े धोया करते थे लेकिन इससे हाथ खराब हुआ करते थे तब करसन भाई पटेल ने मात्र ₹3 प्रति किलो के हिसाब से अपना वाशिंग पाउडर शुरू कर दिया जो विदेशी कंपनियों के वाशिंग पाउडर से 4 गुना सस्ता था इसके साथ ही कृष्ण भाई लोगों को गारंटी दी गई कि यदि कपड़े साफ नहीं होते हैं तो वह पैसे वापस कर देंगे ऐसे में लोगों ने इसे हाथों-हाथ खरीदना!

जैसे-जैसे व्यापार बढ़ता चला गया तो वह केवल गुजरात के मेहसाणा तक ही सीमित नहीं रखना चाहते थे वह अपनी बेटी का नाम पूरी दुनिया के अंदर फैलाना चाहते थे ऐसे में उन्होंने निरमा वाशिंग पाउडर का विज्ञापन टीवी पर कर दिया और वह सुपरहिट हो गया और देखते ही देखते मध्यम वर्गीय परिवार की पहली पसंद बन गया!

वही आपकी जानकारी के लिए बता दे हाल ही में मिली 4 पत्रिका के अनुसार करसन भाई पटेल की कुल संपत्ति 4.1 बिलियन डॉलर है दुनिया की धन वालों की सूची की अगर बात करें तो उनका स्थान 775 वा है जबकि भारत में वह 39 स्थान पर है!

About appearnews

Check Also

प्रियंका चोपड़ा की एक गलती के कारण होना पढ़ा था शर्मिंदा, लोगों ने किया जमकर ट्रोल…

प्रियंका चोपड़ा को आज के समय में किसी की पहचान की जरूरत नहीं है उन्होंने …